Hindi Shayari

34
सुना है हमें वो भुलाने लगे हैं, तो क्या हम उन्हें याद आने लगे हैं.
Open in app
Hindi Shayari
38
चाहता, फिक्र, एहतराम, सादगी और वफ़ा❤️🌹 मेरी इन्ही आदतों ने मेरे तमाशा बना दिया