Shayri

5
Public channel
Open in app
Shayri
37
वो आएगी नहीं पर फिर भी मैं इंतज़ार करता हूँ, एक तरफ़ा ही सही पर मैं सच्चा प्यार करता हूँ॥ Mili...😎
Shayri
32
आँखों में ठहरो चाहे दिल में उतर जाओ, .. दोनो घर तुम्हारे हैं तुम चाहे जिधर जाओ! Mili..🥰
Shayri
42
भटकना कौन चाहता है जो तुम, मिल जाओ तो ठहर जाऊं मैं भी...!
Shayri
30
बरसों की प्यास इक नज़र से कैसे घटेगी........!! बरस जाओ के ज़िंदगी इसी हसरत में कटेगी...!!
Shayri
25
मेरी खामोशियां पढ़ सको तुम, इतने गहरे भी नहीं उतरे हो तुम मुझमें..!!!
Shayri
26
सच्चे रिश्तों की खूबसूरती एक दूसरे की गलतियां बर्दाशत करने में हैं क्योंकि बिना कमी का इंसान तलाश करेंगे तो अकेले ही रह जायेंगे...
Shayri
26
बहुत करली तेरे इश्क़ पे शायरी .... अब तेरी करतूतों पर किताब लिखूंगी !!! Mahi ❤️